निदेशक के बारे में...

श्री संजय सिन्हा ने अपै्रल 2018 में राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एस0सी0ई0आर0टी0), उत्तर प्रदेश, लखनऊ के निदेशक के पद पर कार्यभार ग्रहण किया। श्री सिन्हा उत्तर प्रदेश (सामान्य शिक्षा) सेवा संवर्ग के वर्ष 1986 बैच के अधिकारी हैं। जनपद वाराणसी में जन्में श्री सिन्हा ने अपनी माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा वाराणसी में प्राप्त की। श्री सिन्हा ने वर्ष 1982 में काशी हिन्दु विश्वविद्यालय, वाराणसी से मनोविज्ञान में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की। इस परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन हेतु विश्वविद्यालय द्वारा श्री सिन्हा को स्वर्ण पदक प्रदान किया गया। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा के आधार पर सामान्य शिक्षा सेवा संवर्ग में चयन के उपरान्त श्री सिन्हा बेसिक शिक्षा एवं माध्यमिक शिक्षा में विभिन्न पदों यथा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, प्राचार्य, जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थान, निदेशक, मनोविज्ञानशाला, सचिव, उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद आदि के साथ-साथ शिक्षा निदेशालय, इलाहाबाद में भी कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्यरत रहे। सचिव, उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के रूप में श्री सिन्हा लगभग 09 वर्षों तक कार्यरत रहे, जहाँ उनके द्वारा बेसिक शिक्षा परिषद के नियंत्रणाधीन परिषदीय प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों की भर्ती तथा इनके संचालन हेतु कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये।

निदेशक, मनोविज्ञानशाला तथा प्राचार्य, जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थान के रूप में श्री सिन्हा द्वारा निर्देशन, परामर्श एवं प्रशिक्षण के क्षेत्र मंे महत्वपूर्ण योगदान दिया गया। श्री सिन्हा जहाँ एक ओर कुशल प्रशासनिक अधिकारी हैं, वहीं दूसरी ओर अकादमिक क्षेत्र में भी उनकी बहुत अच्छी पकड़ है। शीघ्रता से सुविचारित निर्णय लेना, अपने साथियों तथा अधीनस्थों को उनके अच्छे कार्यों हेतु प्रोत्साहित करना तथा विभिन्न वर्ग के लोगों की यथावश्यकता सहायता करना श्री सिन्हा के व्यक्तित्व का अभिन्न अंग है। साथ ही अपरिहार्य होने पर इनके द्वारा यथोचित कठोर निर्णय भी लिये जाते हैं।

श्री सिन्हा द्वारा निदेशक, मनोविज्ञानशाला, उत्तर प्रदेश, इलाहाबाद के पद पर रहते हुए इस क्षेत्र में अनेक महत्वपूर्ण कार्य किये गये। यहाँ पर यह विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि श्री सिन्हा अपने साथियों एवं अधीनस्थों को भी समय-समय पर मनोवैज्ञानिक परामर्श देकर उनकी व्यक्तिगत एवं व्यावसायिक समस्याओं का समाधान करते हैं। श्री सिन्हा शिक्षा विभाग में जिस भी पद पर रहे हैं, वहाँ उनका प्रदर्शन उत्कृष्ट ही रहा है। श्री सिन्हा द्वारा अपने कार्यस्थल पर सकारात्मक वातावरण के सृजन के साथ-साथ कार्यस्थल का सृदृढ़ीकरण भी किया गया।

वर्तमान में श्री सिन्हा निदेशक, एस0सी0ई0आर0टी0, उ0प्र0 होने के साथ-साथ शैक्षिक प्रबन्धन एवं प्रशिक्षण संस्थान (सीमैट), प्रयागराज के निदेशक भी हैं। श्री सिन्हा के कुशल निर्देशन में ये दोनों संस्थाएँ शैक्षिक उन्नयन एवं प्रगति की दिशा में सतत रूप से अग्रसर है। श्री सिन्हा द्वारा एस0सी0ई0आर0टी0 की इकाइयों तथा जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थानों को एक उत्कृष्ट अकादमिक संस्था के रूप में पहचान दिलाने के लिये प्रयास किया जा रहा है।

श्री संजय सिन्हा भारत स्काउट एवं गाइड, उत्तर प्रदेश के स्टेट स्काउट कमीश्नर हैं। इस भूमिका में भी श्री सिन्हा द्वारा स्काउट और गाइड को पाठ्यक्रम के विभिन्न विषयों से जोड़ते हुए इसे विद्यार्थियों के जीवन से जोड़ने हेतु निर्देश दिये गये हैं।

श्री संजय सिन्हा का मानना है कि हम सभी अधिकारी या पदाधिकारी होने से पूर्व मनुष्य हैं और हमारा प्रथम उद्देश्य व दायित्व मनुष्यता का पालन करना होना चाहिए है। श्री सिन्हा का लक्ष्य है कि सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले और शिक्षक स्वतः प्रेरित होकर शिक्षण कार्य में अग्रसर रहें।